अपने पालतु पशु के वजन को किस प्रकार से संतुलित रखें ।


How to manage your pet's weight

Photo: Shutterstock

मनुष्यों की तरह ही पशुओं में भी मोटापे की समस्या होती है । हम भोजन परोसने की अपनी उदारता के परिणामस्वरूप अपने पालतु पशु को मोटा बना देते हैं । जब आप अपने पालतु पशु को ज्यादा खिलाते हैं तो आप उसके लिए अनेकों बीमारियों का जोखिम भी उत्पन्न कर देते हैं । मोटापे के कारण पशुओं को डायबिटिज, हाईपरलिपिडेमिया (hyperlipidemia) तथा कैंसर जैसे रोग हो सकते हैं ।

पशुओं को तंदुरूस्त बनाए रखने एवं  उन्हें  मोटापे से दूर रखने में उनके स्वामियों का अत्यंत महत्वपूर्ण योगदान रहता है । यूनिवर्सिटी ऑफ इल्लीनॉस में पशु एवं आहार विज्ञान के प्रोफेसर कैल्ली स्वानसन का यह कहना है कि “ वस्तुत: अपने पालतु जानवर के मोटे होने का पता उनके स्वामियों को स्वयं ही लगाना चाहिए क्योंकि अजीब अथवा थुलथुल लगने वाले पालतु जानवर के स्थान पर उन्हें सुन्दर एवं आकर्षक दिखाई देना चाहिए। पतले व स्वस्थ पालतु पशु न केवल दीर्घ आयु प्राप्त करते हैं अपितु सबसे अच्छी बात यह कि उनके जीवन की गुणवत्ता भी काफी अच्छी हो  जाती है । ”

इस वर्ष एडीएसए – एएसएएस की संयुक्‍त वार्षिक बैठक (ADSA-ASAS Joint Annual Meeting ) में पांच सहकर्मी पशु आहार विशेषज्ञों द्वारा बिल्लियों और कुत्तों को अधिक भोजन करवाने अथवा गलत ढंग से भोजन करवाए जाने का परीक्षण किया गया था ।  “कम्पैनियन एनीमल सिम्पोसियम : बॉयोएनर्जीटिक्स ऑफ पैट फूड” (Companion Animal Symposium: Bioenergetics of pet food) कम्पेनियन  वार्षिक विज्ञान कार्यक्रम का एक भाग था ।

इस अवसर पर पालतु पशुओं के भोजन में बॉयोएनर्जीटिक्स (bioenergetics) की खोज की गई थी जिसमें शारीरिक गठन के माध्यम से ऊर्जा प्रवाह का अध्ययन किया गया था । इस विषय में मोटे जानवरों तथा उनके द्वारा सेवन किए गए भोजन के बीच परस्पर किसी ताल्लुक़ सेसंबंधित अपेक्षित जानकारी प्राप्त करने में सहायता मिली ।

हिल्लस पैट न्यूट्रिशन में अनुसंधान वैज्ञानिक  (Research Scientist at Hill’s Pet Nutrition)  डेनिस जेवेल का यह कहना है कि “प्रत्येक पालतु पशु की आनुवांशिकी भिन्न प्रकार की होती है जिससे  यह निर्धारित होता है कि वे उदाहरण के तौर पर अन्य जानवरों की तुलना में अपने शरीर के वजन के रखरखाव के लिए अधिक कैलोरिज का प्रयोग कर रहे हैं अथवा नहीं । हम  तदानुसार उनके लिए भोजन परोसने के कार्यक्रम का निर्धारण कर सकते हैं । हम पालतु पशुओं की प्रजातियों के लिए उनकी आयु, आकार इत्यादि जैसे कारकों के आधार पर उनको  भोजन देने के कार्यक्रम निर्धारित कर सकते हैं परन्तु फिर भी किसी पालतु पशु के लिए आहार नियमों की पूरी  तरह व्यवस्था नहीं की जा सकती । ”

उदाहरण के लिए वजन कम करने के उद्देश्य से कार्यक्रम को इस प्रकार तैयार किया जाए जो कम कैलोरिज तथा अधिक फाइबर युक्त भोजन के सेवन पर केंद्रित हो । अधिक फाइबर युक्त भोजन के सेवन किए  से उल्टे  कम आहार (ad-libitum feeding) दिए जाने की स्थिति उत्पन्न हो सकती है ।

यदि पालतु पशु का वजन अधिक है तो उन्हें डायबिटिज मैल्लीट्स (mellitus) गठिए की समस्या हो सकती है तथा उनके जीवन काल में भी कमी आ सकती है ।

आप अपने पालतु पशुओं के वजन से संबंधित समस्याओं का समाधान नीचे दिए पांच अनिवार्य उपायों से कर सकते हैं :-

वजन कम करने की योजना बनाना

जब कभी आपको यह लगे कि आपके पालतु पशु का वजन बढ़ रहा है तो उसका वजन कम  करने की योजना बनाना अत्यावश्यक है  । आप वजन सहित उचित परीक्षण के लिए नियमित रूप से उसे पशु चिकित्सक के पास ले जाएं ।  पशु चिकित्सक पूरी जांच करने के पश्चात  उसके शरीर के वजन तथा नस्ल के अनुसार आपको उसके लिए अपेक्षित उचित वजन के बारे में सलाह देगा ।

उचित आहार

आपके पालतु पशु का वजन कम करने के लिए उसे वजन कम करने संबंधी स्वास्थ्यप्रद एवं उचित ढंग से तैयार आहार दिया जाना उचित होगा । उसके स्वामी को ऐसे आहार का चुनाव करना चाहिए जिसमें वसा एवं कैलोरिज की मात्रा कम हो । खाद्य सामग्री पोषक  होनी चाहिए तथा उसमें प्रोटिन एवं फाइबर की मात्रा भरपूर होनी चाहिए । अपने पालतु पशु को संतुलित मात्रा में आहार दिया जाना ज्यादा जरूरी होता है  ।

आहार के प्रकार

मनुष्यों तथा पशुओं के वजन को नियंत्रित करने की पद्धति लगभग एक जैसी है । वजन कम किए जाने के कार्यक्रम के अनुसार उन्हें प्रत्येक दिन समान मात्रा में कैलोरिज दी जानी चाहिए ।  भोजन दो से चार भागों में बांटकर थोड़ी थोड़ी मात्रा में दिया जाना चाहिए ।  पशु चिकित्सक यह परामर्श देते हैं कि पशु को दिन में एक से अधिक बार भोजन दिए जाने से उनकी रस प्रक्रिया अच्छी होती है तथा उन्हें अधिक भूख भी नहीं लगती है ।

नियमित व्यायाम

अपने पशु की कैलोरिज की खपत के लिए आपको अनिवार्य रूप उसे नियमित व्यायाम करवाना चाहिए । कुत्तों तथा बिल्लियों के लिए दिन में कम से कम 30 मिनट का खेल-कूद अभ्यास पर्याप्त होता हैं ।

प्रगति की मॉनीटरिंग

वजन कम करने की योजना के दौरान आपको अपने कुत्ते के स्वास्थ्य की मॉनीटरिंग करनी चाहिए । बेहतर होगा पशु चिकित्सक को इससे अवगत कराते रहें । यदि आपको यह लगता है कि आपके पालतु पशु का वजन कम नहीं हो रहा है तो उसकी रोजमर्रा की कैलोरिज में कमी लाकर इसे संभव बना सकते हैं ।

यदि आप इस लेख में दी गई सूचना की सराहना करते हैं तो कृपया फेसबुक पर हमारे पेज को लाइक और शेयर करें, क्योंकि इससे औरों को भी सूचित करने में मदद मिलेगी ।

Leave a comment

Your email address will not be published.