बच्चों के लिए ज़रूरी है फ्री टाइम


बच्चों के बारे में, आप शायद सोचते हों कि उनके दिन का शेड्यूल जितना पैक हो सके उतना अच्छा है लेकिन उसमें कुछ खाली समय रखना न भूलें। खेलकूद, संगीत या अन्य रचनात्मक गतिविधि और अन्य क्रियाकलापों का बच्चों पर अकादमिक रूप से भी उचित प्रभाव पड़ता है और दुनिया देखने के प्रति उनका रुझान बढ़ता है। लेकिन क्या वे अपने विचारों को सही तरह से समझने का समय पा रहे हैं?

क्लीवलैंड चिल्ड्रन्’स क्लिनिक के बाल मनोविज्ञानी डॉ. क्रिस्टन ईस्टमैन के अनुसार बच्चों को दिन भर में कुछ खाली समय मिलना ज़रूरी है, फिर चाहे वे इसे अपने भाई-बहनों के साथ बिताएं या परिवार के साथ या टीवी देखते हुए या कुछ भी न करते हुए। हर गतिविधि रचनात्मक नहीं होती और दिन भर में इतने सारे क्रियाकलाप नहीं होने चाहिए कि बच्चे को फ्री टाइम मिलना मुश्किल हो जाये।

बच्चे के स्वायत्त विकास में खाली समय का भी बड़ा योगदान होता है। कोलोरेडो, बोल्डर यूनिवर्सिटि के एक ताज़ा अध्ययन में पाया गया कि जिन बच्चों को खाली समय मिलता है और इस समय को वे अपने ढंग से बिताने के लिए स्वतंत्र हैं, वे अपने गोल्स बनाने और उन्हें हासिल करने में भी दक्ष पाये गये। यह सिर्फ एक कड़ी है लेकिन इसका ध्यान रखना ज़रूरी है। कई बाल विशेषज्ञ मानते हैं कि बच्चों में अपने निर्णय खुद लेने की क्षमता का विकास होना चाहिए। छोटे बच्चों को अपने कपड़े चुनकर पहनने और थोड़े बड़े बच्चों को अपने दिन का कुछ हिस्सा अपने ढंग से बिताने की इजाज़त मिलना चाहिए।

अगर आपको लगता है कि आपका बच्चा बात-बात पर बिगड़ता है या बात नहीं मानता है तो हो सकता है कि इस व्यवहार का कारण यह हो कि उसे अपनी रुचियों के लिए पर्याप्त समय नहीं मिल रहा है या वह दिन भर में बहुत सारे काम करने के कारण थका हुआ महसूस करता है। इस समस्या का एक और लक्षण यह हो सकता है कि वह स्कूल जाने से कतराये या कक्षा में उसका ध्यान न लगता हो। अगर आपका बच्चा सिर्फ स्कूल जाने और स्कूल के बाद की गतिविधियों में ही उलझा है, तो आपको दोबारा सोचना चाहिए कि वह अपनी रुचियों के लिए समय निकाल पा रहा है या वह चाहकर भी आपके साथ समय बिता पा रहा है या नहीं।

यदि आप इस लेख में दी गई सूचना की सराहना करते हैं तो कृप्या फेसबुक पर हमारे पेज को लाइक और शेयर करें, क्योंकि इससे औरों को भी सूचित करने में मदद मिलेगी ।

Leave a comment

Your email address will not be published.