पप्पी को भोजन कैसे दिया जाए


Here's how to feed your puppies

Photo: Shutterstock

जीवन के शुरूआती महीनों में पप्पी का अधिक ध्यान रखा जाना आवश्यक है और वह भी विशेषकर तब जब उन्हें उनकी माता के दूध से वंचित करके खुराक के रूप में पप्पी डाईट दी जानी हो ।  अपने जीवन के पहले चार सप्ताह में पप्पी  को अपनी माता के दूध में से सभी पोषक आहार प्राप्त हो जाते हैं तथा माता और पप्पी यदि दोनों स्वस्थ हों तो किसी प्रकार के पूरक आहार की आवश्यकता नहीं होती है ।

यदि माता स्वस्थ नहीं है और वह अपनी संतान की आवश्यकता के अनुरूप पर्याप्त मात्रा में दूध नहीं दे पा रही है तो आपको उसके लिए पूरक आहार की व्यवस्था करनी पड़ सकती है । यदि ऐसा होता है तो बेहतर होगा कि आप अपने पशु चिकित्सक से इस बारे में बात करें कि रोजमर्रा प्रयोग के लिए कौन सा दुग्ध उत्पाद दिया जाना बेहतर होगा तथा किस विधि से ऐसा आहार दिया जाना चाहिए ।

उचित विकास के लिए जीवन के प्रारम्भिक छ: महीनों में पप्पी को दिन में दो से चार बार भोजन की आवश्यकता होती है । जीवन के पहले सप्ताह के पश्चात्‍ जब  उसका वजन जन्म के समय के वजन से दो गुणा हो जाता है तो पप्पी के लिए  अपने संंभावित वयस्क वजन के अनुरूप प्रति पाउंड प्रतिदिन एक से दो ग्राम वजन ग्रहण करना आवश्यक  हो जाता है  ।

जिन पिल्लों का दूध सफलतापूर्वक छुड़ाया जा चुका हो उन्हें भोजन दिए जाने से संबंधित कुछ उपाय नीचे दिए गए हैं :

उन्हें किस प्रकार भोजन दिया जाए 

  • चौथे सप्ताह से पप्पी को पप्पी फूड देना प्रारम्भ कर दें । पहले उन्हें थोड़ी मात्रा में आहार दें और धीरे धीरे मात्रा बढ़ाकर नियमित पप्पी आहार के समरूप कर लें क्योंकि अब उन्हें अपनी माता से मिलने वाला दूध पूरी तरह से छुड़ावाया जा चुका है ।
  • आपको यह ज्ञात होना चाहिए कि आपके आहार को पप्पी प्रारम्भ में किसी प्रकार की खेलने की वस्तु समझेगा । इस बारे में चिंता न करें । धीरे धीरे उन्हें यह ज्ञान हो जाएगा कि यह खाने की वस्तु है । आठ सप्ताह पूरे होने पर जब उनका दूध पूरी तरह से छुड़ाया जा चुका होगा तो पप्पी नियमित रूप से सूखा भोजन खाने का अभ्यस्त हो जाएगा ।
  • युवा कुत्तों की तुलना में पप्पी को अधिक ऊर्जा की आवश्यकता होती है । इससे अभिप्राय यह है कि उन्हें अपने भोजन से अधिक प्रोटीन प्राप्त होना चाहिए । अपने पशु चिकित्सक के परामर्श से अपने कुत्ते की नस्ल के अनुसार सही भोजन एवं उसकी मात्रा का निर्धारण कर लें । उदाहरण के तौर पर छोटे आकार के कुत्तों को ज्यादा वजन ग्रहण करने से बचाने के लिए सामान्यत: अधिक प्रोटीन युक्त भोजन की आवश्यकता नहीं होती है । तथापि मध्यम एवं बड़े कुत्तों के यह फायदेमंद होता है ।
  • जानवरों को अधिक भोजन देने से उनका स्वास्थ्य खराब हो सकता है । ज्यादा भोजन करने वाले कुत्तों का विकास तेजी से होता है तथा उनकी अगली टांगे झूक जाने जैसी हड्डियों की बिमारी हो जाती है । याद रखें कि ज्‍यादा भोजन करने से आपके कुत्ते का विकास पूरे जोर शोर के साथ नहीं हो पाएगा । कुत्ते का आकार उनके वंशानुगत प्रभावों पर निर्भर करता है तथा ज्यादा उचित यही होगा कि आपका कुत्ता स्वस्थ रहे, संतुलित आहार ग्रहण करे और उसका विकास धीरे धीरे समयानुसार  हो ।
  • कुत्तों को कभी कभी ट्रीट का आनन्द भी लेने दें । उन्हें उल्लासपूर्वक किसी डॉग ट्रीट की ओर लपकते देखना आपको अच्छा लगेगा परन्तु यह उनके रोजमर्रा के भोजन के 5% से अधिक नहीं होना चाहिए । आपके कुत्ते का अधिकांश आहार अच्छा एवं गुणवत्तापूर्ण होना चाहिए ।

क्या खिलाया जाना चाहिए

पप्पी फूड विटामिन एवं प्रोटिन से समृद्ध होता है । इसमें हर प्रकार की भरपूर अनिवार्य वसा होती है जो पप्पी के विकास के लिए उपयुक्त होती है ।

अपने पप्पी के लिए आहार की खरीद करने से पूर्व अपने पशु चिकित्सक से परामर्श कर यह अवश्य सुनिश्चित कर लें कि आपके पप्पी के लिए कौन सा आहार और उसकी कितनी मात्रा उपयुक्त रहेगी ।  “प्रत्येक आयु वर्ग के पप्पी के लिए” लेबल से युक्त नियमित आहार भी बेहतर हो सकता है ।

बड़े ब्रीड वाले पप्पी फार्मूलों के आधार पर बड़े पप्पी विकसित होते हैं । छोटे ब्रीड वाले फार्मूलों के अंतर्गत गाढ़ा आहार बाईट आकार के टुकड़ों में दिया जाता है जो छोटे आकार के पप्पी की उच्च पाचन रस की आवश्यकता के अनुरूप होता है ।  मध्यम ब्रीड के लिए इनमें से मध्यम प्रकार के फार्मूलें  उपयुक्त होते हैं ।

यदि आप इस लेख में दी गई सूचना की सराहना करते हैं तो कृप्या फेसबुक पर हमारे पेज को लाइक और शेयर करें, क्योंकि इससे औरों को भी सूचित करने में मदद मिलेगी ।

 

 

Leave a comment

Your email address will not be published.