कुत्ते के काटने से बच्चों को बचाने के 8 तरीके


कुत्ते के काटने से बच्चों को बचाने के 8 तरीकेहालांकि कुत्ते मनुष्य के सबसे अच्छे दोस्त होते हैं लेकिन कभी-कभी गुस्से में या डर या खुद को कठिन स्थिति में पाकर वे हमला भी कर देते हैं। अक्सर, कुत्ते का काटना गंभीर नहीं होता और यह कुत्ते के डर के कारण होता है। इसलिए लोगों खासकर बच्चों को यह सिखाना चाहिए कि जानवरों के साथ या आसपास कैसे बर्ताव करें। सेंटर फॉश्र डिसीज़ कंट्रोल एंड प्रिवेंशन द्वारा 1994 में किये गये एक सर्वे के अनुसार, केवल यूएस में ही हर साल 4.5 मिलियन लोग कुत्ते के काटने के शिकार होते हैं। कुत्ते अक्सर बच्चों या बूढ़ों पर हमला करते हैं। ऐसे लोगों में से करीब 8 लाख लोगों को मेडिकल सहायता की ज़रूरत पड़ी और इनमें से 15-20 लो घाव के कारण मारे गये। अधिकतर कुत्ते खराब प्रवृत्ति के नहीं होते, लगातार काटने वाले कुत्तों का गंभीर विश्लेषण ज़रूरी है। हालांकि अधिकांशतः कुत्तों का काटना गंभीर नहीं होता और यह कुछ स्थितियों पर निर्भर करता है जैसे कि वह कुत्ता कितना दोस्ताना या उछलकूद वाला है, कुत्ते अपने बचाव के कारण उत्तेजित होकर हमला करते हैं। कुत्ते के दंश से आप और आपके बच्चे सुरक्षित रहें इसके लिए यहां कुत्तों के साथ व्यवहार करने संबंधी कुछ सुझाव दिये जा रहे हैं।
अगर आप किसी कुत्ते के आसपास हैं तो उसके मालिक से उसके स्वभाव के बारे में पूछें, खासकर बच्चों के प्रति उसके बार्तव के बारे में। जो कुत्ते फ्रेंडली नहीं हैं उनसे दूरी बनाकर रखें और बच्चों को तो दूर ही रखें।
अगर कोई मालिक यह कहता है कि उसका कुत्ता फ्रेंडली है तो धीरे से उसके करीब जाएं और उसे अपना हाथ या पैर सूंघने दें ताकि वह आपके साथ फ्रेंडली हो सके। इसके बाद ही उसके साथ कोई संपर्क या गतिविधि करें। किसी कुत्ते को उसके सिर वाले भाग की तरफ न छुएं बल्कि कंधों या छाती के आसपास छूना बेहतर है।
कुत्ते शॉक की स्थिति में अक्सर काटते हैं। अपने बच्चों को बताएं कि जब कुत्ता खाना खा रहा हो या सो रहा हो तब उसके पास न जाएं।
अपने बच्चों की देखभाल कर रहे कुत्तों के पास भी नहीं जाना चाहिए। कुत्ते अपने बच्चों को लेकर बेहद सुरक्षात्मक होते हैं और ज़रा भी खतरा महसूस होने पर आपको काट सकते हैं।
भौंकते हुए या गुर्राते हुए कुत्ते से दूर रहें।
अपने बच्चों को समझाएं कि आवारा कुत्तों के पास जाना उचित नहीं है। अगर ऐसा कोई कुत्ता उनकी तरफ आये भी तो नज़र न मिलाएं, न ही किसी किस्म से उसे ललचाएं। इसके बजाय, चुपचाप स्थिर खड़े रहें, जब तक वह आपसे खुद दूर न चला जाए।
किसी कुत्ते द्वारा पीछे किये जाने को लेकर अपने बच्चों को टिप्स दें। सुझाव दें कि ऐसी सिथति में आप स्थिर खड़ें हों, शांत रहें, कुत्ते के नज़दीक आने पर मौके को देखकर उसकी गर्दन के पीछे हाथ रखकर उसे सुरक्षित होने का एहसास कराएं। आपके शांत रहने पर कुत्ता कुछ ही देर में दूर चला जाता है।
अगर कोई कुत्ता हमले के मकसद से बच्चे के पीछे पड़ जाए तो ऐसी स्थिति में बच्चे को समझाएं कि वह अपना कोई कपड़ा जैसे रूमाल या जैकेट या फिर कोई बैग आदि फेंक दे ताकि कुत्ते का ध्यान भंग हो जाए और वह उस चीज़ के सज्ञथ ही उलझ जाए।

यदि आप इस लेख में दी गई सूचना की सराहना करते हैं तो कृप्या फेसबुक पर हमारे पेज को लाइक और शेयर करें, क्योंकि इससे औरों को भी सूचित करने में मदद मिलेगी ।

Leave a comment

Your email address will not be published.